आखिर शराब (Sharab) को GST से बाहर क्यों रखा गया #GST #liquorout

वास्तु एंड सेवा कर (GST) बहुत जी जैसी यानि की १ जुलाई २०१७ से लागु होने वाला है! केंद्र सरकार का कहना है की इस से देश को बहुत लाभ होगा इसलिए इसमें ज्यादा से ज्यादा चीज़ो को शामिल किया गया है! यहाँ तक की कृषि और अंधजनों के काम मे आने वाली काफी साड़ी चीज़ो पे टैक्स लगा दिया गया है! इनमें से कई चीज़े तोह ऐसी है जिनपे पहले कभी कोई टैक्स नहीं हुआ करता था लेकिन अब उनपे ५% से १८% तक टैक्स लगेगा!

चलो छोड़ो जिस चीज़ पे टैक्स (GST) लगना था लगा दिया लेकिन शराब (Wine) और बियर (Beer) जैसी अल्कोहलिक ड्रिंक्स (Alcoholic Drinks) को क्यों GST से बहार रखा गया?

आखिर शराब को GST से बाहर क्यों रखा गया (Why Liquor is not included in GST?)

Sharab GST

शराब,बियर, और वाइन जैसे अल्कोहलिक बेवरेजेज (Alcoholic Beverages) से सरकार को सबसे ज्यादा टैक्स (Tax) मिलता रहा है फिर क्यों इन्हे GST की रेंज से बहार कर दिया गया? इस सवाल का जवाब बहुत जरुरी है क्योंकी शराब,बियर, और वाइन जैसे अल्कोहलिक बेवरेजेज बनाने वाली कंपनियों का कहना है की उन्होंने GST मे शामिल होने के लिए बहुत प्रयास किये लेकिन फिर भी उन्हें इस से बाहर रखा गया!

आखिर ऐसा क्यों किया गया?  (Why Wine and Beer are not included in GST even when their manufacturers wanted to be in the list?)

खुद मनीष सीसोदिआ जी (Manish Sisodia) ने दिल्ली विधानसभा मे इस पे सवाल उठाये है! उन्होंने केंद्र सरकार के इस कदम का विरोध भी किया लेकिन केंद्र सरकार ने इस पे कोई विचार नहीं किया है और अभी भी शराब जैसी चीज़े GST से बाहर है!

सरकार की क्या मंशा है शराब को GST से बाहर रखने के पीछे?

इस प्रश्न का जवाब तो सरकार मे बैठे लोग ही दे सकते है लेकिन अगर सरकार के इस कदम से शराब के रेट गिरते है और डिमांड मैं वृद्धि होती है तो देश मैं शराब से मरने वालो की गिनती भी बढ़ने लगेगी! (Count of people dying due to Liquor may increase if the rates of Sharab will decrease as it is out of GST). Likely the demand of Wine and Beer will increase.

सवाल का जवाब शायद CA लोग दे सकते है! अगर कोई CA इस पोस्ट को पड़ रहा है तो हम उनसे गुजारिश करेंगे की इस सवाल का जवाब ढूंढने मे देश की मदद करे!

Leave a Reply